बहुत गर्म चाय पीने से हो सकता है कैंसर

अगर आप बहुत गर्म चाय (Hot tea) पीते हैं तो आज से यह आदत बदल डालें। एक नए अध्ययन में यह सामने आया है कि जो लोग रोज 60 डिग्री सेल्सियस तक गर्म कम से कम 700 मिलीलीटर चाय पीते हैं, उन्हें इसोफेगस कैंसर ( Esophagus Cancer) होने का खतरा 90 प्रतिशत ज्यादा होता है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ कैंसर में हाल में प्रकाशित रिपोर्ट में पहली बार गर्म चाय के तापमान का स्तर बताया गया जो कि नुकसान का कारण बनता है। इसके पहले अमेरिका में हुए एक अध्ययन में यह तो बताया गया था कि गर्म चाय से कैंसर हो सकता है, पर इसका खुलासा नहीं हो सका था कि यह चाय कितनी गर्म होनी चाहिए।

6 मिनट तक ठंडी चाय सही

इस खुलासे के नतीजे तक पहुचने के लिए पूर्वोत्तर ईरान के गोलस्टान प्रांत के 50 हजार लोगों पर अध्ययन किया गया। इन सबकी उम्र 40 से 75 वर्ष के बीच थी। वर्ष 2004 से 2017 तक के अध्ययन के दौरान प्रतिभागियों की गर्म चाय पीने की गतिविधियों को रिकॉर्ड किया गया। इस दौरान इन प्रतिभागियों में इसोफेगस कैंसर के 317 मामले सामने आए। इन आंकड़ों और तथ्यों के परीक्षण के बाद पाया गया कि जिन लोगों ने बहुत ज्यादा गर्म चाय पी, उनमें उन लोगों से इसोफेगस कैंसर का खतरा 2.41 गुना ज्यादा था जिन्होंने ठंडी या गुनगुनी चाय पी। इस दौरान यह भी सामने आया कि चाय छानने के 2 मिनट बाद इसे पीने वालों को 1.51 गुना ज्यादा बीमारी का खतरा होता है, उन लोगों के मुकाबले जो चाय छानने के कम से 6 मिनट बाद इसे पीते हैं।

मुख्य अध्ययन लेखक डॉ. फरहाद इस्लामी कहते हैं चाय पीने से पहले उसे ठंडी करनी जरूरी है। इससे कैंसर का खतरा कम होता है।

क्या है इसोफेगस कैंसर

यह कैंसर गले को पेट से जोड़ने वाली ट्यूब या नली में होता है। इस ट्यूब को फूड पाइप भी कहते हैं। इसोफेगस कैंसर में अचानक व्यक्ति का वजन गिरने लगता है। कुछ भी निगलने में बहुत परेशानी होती है। इसके अलावा सीने में दर्द और जलन महसूस होती है। इस बीमारी का एकदम शुरुआत में पता चलना बहुत मुश्किल होता है। ऐसे मरीजों को खट्टे फल, टमाटर, प्याज, मसालेदार खाने, चॉकलेट और अल्कोहल आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *