इंग्लैंड की यूनिवर्सिटी ने सुझाया मानसिक शांति का सबसे आसान सूत्र

तनाव, चिंता और परेशानियों से निराश लोगों को मानसिक शांति दिलाने के लिए इंग्लैंड की लैंकेस्टर यूनिवर्सिटी (Lancaster University) ने सबसे आसान तरीका खोज निकाला है। इसके लिए न किसी दवा की जरूरत है, न ही किसी खास तरह के उद्यम या श्रम की। यूनिवर्सिटी की रिसर्च के अनुसार प्रकृति की फोटोग्राफी (Nature Photography) इन सबका सबसे कारगर निदान है। इस फोटोग्राफी में न सिर्फ उपचारात्मक शक्ति (Healing Power) छिपी है, बल्कि ध्यान केन्द्रण बढ़ाने की उल्लेखनीय क्षमता भी है।

वन्यजीवों की फोटोग्राफी से लाभ

लैंकेस्टर यूनिवर्सिटी की डॉ. लिज ब्रूस्टर ने अपनी रिसर्च में फोटोग्राफी और मानसिक स्वास्थ्य ठीक होने के संबंधों के बीच का अध्ययन किया। उन्होंने फोटोग्राफ लेने और इसको लेकर बात करने के बाद होने वाले प्रभावों की जांच की। जांच के दायरे में ऐसे लोग भी शामिल थे, जिनका कई बीमारियों का इलाज हो चुका था। इनमें बहुत से ऐसे लोग भी थे जिनका कोई उपचार नहीं चल रहा था। डॉ. लिज ब्रूस्टर के अनुसार रिसर्च में यह सामने आया कि फोटोग्राफी, खास तौर से वन्यजीवों की फोटोग्राफी हर तरह के मानसिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। उनका कहना है कि इस तरह की फोटोग्राफी के लिए बहुत ज्यादा धैर्य की जरूरत पड़ती है। इससे कला के प्रति सोच भी बेहतर होती है।

चिंताएं दूर हो गईं

डॉ. लिज ब्रूस्टर की रिसर्च के एक प्रतिभागी ट्रेवर पर्सन इस प्रयोग के सकारात्मक प्रभावों को कुछ इस तरह बयान करते हैं -“इस फोटोग्राफी से दुनिया देखने का मेरा नजरिया ही बदल गया। जब मैं अपनी सैर के दौरान के फोटो के बारे में बात करने लगा और फोटोग्राफी के लिए एक निश्चित समय तक कई बार ध्यान केंद्रित करना शुरू किया तो मेरी सारी चिंताएं दूर हो गईं।

ऐसा हो अप्रोच

अंतरराष्ट्रीय समाचार संस्थान रायटर्स (Reuters) के पूर्व फोटोग्राफर और ‘द टाइम’ के पिक्चर एडिटर पॉल लीड्स बेहतर मानसिक स्वास्थ्य के लिए Mindful approach की सलाह देते हैं। उनके अनुसार लैंडस्केप फोटोग्राफी (Landscape Photography) के लिए भी यह बहुत जरूरी होता है। इस दौरान आपका हर एक सेंस समय और लोकेशन के साथ उपस्थित होना जरूरी होता है। उनके अनुसार इस अप्रोच से उन्हें खुद तनाव और डिप्रेशन दूर करने में बहुत मदद मिली।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *