सावन में साजन के नाम लगाएं मेहंदी

सावन (Sawan) सबके लिए सौभाग्य लेकर आता है। धरती हरियाली से खिल उठती है तो बारिश की बूंदें उसका दामन चूमने को हर पल बेताब दिखती हैं। यह आंगन से लेकर अमराई तक में झूलों की मस्ती का मौसम है तो साजन के लिए सजने का बहाना भी। और सजने का कोई भी प्रयास मेहंदी के बिना पूरा नहीं हो सकता। इस माह में पड़ने वाली हरियाली तीज भी तो यही मौका देती है। वैसे सावन माह का धार्मिक महत्व भी कम नहीं है। हमारे प्राचीन ग्रंथों में वर्णित है कि भगवान शिव पृथ्वी पर अवतरित होकर इस महीने में अपनी ससुराल गए थे और वहां उनका भव्य स्वागत किया गया था। तो आप कैसे करने जा रही हैं अपने प्रियतम का इस्तकबाल…कुछ न सूझे तो तन-मन पर हिना (Henna) का रंग आजमा कर देखिए !!

दो हजार से अधिक प्रचलित डिजाइन

मेहंदी के दो हजार से अधिक प्रचलित डिजाइन हैं। इनमें इंडियन, अरेबिक, पाकिस्तानी, इंडो-अरेबिक, वेस्टर्न, इंडो-वेस्टर्न और मोरक्कन मेहंदी डिजाइन काफी चलन में हैं। आपको जो भी पसंद हो उस डिजाइन की मेहंदी आप आर्टिस्ट से डिमांड कर सकती हैं। इंडियन डिजाइन में कलश से लेकर फूल, पत्ती या प्रकृति के अन्य दृश्य आदि का चित्रण होता है। अरेबिक डिजाइन शेडिंग पर आधारित होती है। इंडो-अरेबिक और इंडो-वेस्टर्न में दो संस्कृतियों का फ्यूजन देखने को मिलता है। सेलेब्रिटीज को ये डिजाइन बहुत पसंद आते हैं। ये हथेली और हाथ के अलावा पैरों और बैक (पीठ) पर ज्यादा फबते हैं। अपने प्रियतम को रिझाने के लिए आप इन डिजाइन के बीच में उनका और अपना नाम भी साथ लिख सकती हैं। इसके बीच हार्ट शेप आदि भी उकेरा जा सकता है।

ऐसे रचेगी गाढ़ी मेहंदी

अगर आपको किसी पार्टी या शादी समारोह में शामिल होना है तो मेहंदी कम से 2 दिन पहले लगाएं। हिना को पूरी तरह रचने में 40-48 घन्टे की जरूरत होती है। इसके बाद इसका रंग देखने योग्य होता है।

मेहंदी लगाने से पहले हाथ या उस जगह को पूरी तरह से साफ कर लें। इससे मेहंदी अच्छे से त्वचा पर खिलती है। हमेशा अच्छी गुणवत्ता वाली मेहंदी ही लगाएं ताकि आपकी त्वचा की सुंदरता बरकरार रहे।

एक पैन में 7-8 लौंग लेकर उसे मद्धम आंच पर रखें। उससे जब धुआं उठने लगे तो उसके ऊपर हाथ रखें। इसके बाद उस हाथ पर मेहंदी लगवाने से वह ज्यादा गहरी रचती है।

मेहंदी लगवाने के बाद सूखने के लिए इसे रातभर छोड़ देना बेहतर होता है। इससे सुबह यह डार्क कलर में खिली हुई दिखेगी। अगर समय कम हो तो भी कम से 2 घन्टे से पहले न हटाएं।

हाथों में मेहंदी लगवाने के बाद उसे सुखाने के लिए कभी भी हैंड ड्रायर या हीटर का प्रयोग न करें। इससे हिना का रंग गाढ़ा नहीं हो पाता। इसलिए हमेशा इसे बिना किसी सहारे के हवा में सुखाएं।

हिना तब और भी ज्यादा रंग लाती है जब इसे लगाने के बाद इसके ऊपर नारियल का हल्का सा तेल लगा दिया जाता है। मेहंदी सूखने के बाद इस पर चीनी का घोल रुई के सहारे लगाने से यह ज्यादा देर तक त्वचा पर टिकती है।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *