रतौंधी की बीमारी ऐसे हो जाएगी ठीक

रतौंधी (Night Blindness) का मतलब रात में आंखों से दिखाई देना बंद होना नहीं है, बल्कि रात में आंख से बहुत ही कम या धुंधला दिखना है। कई कारणों से होने वाली यह बीमारी थोड़ी सी सावधानी और प्रयास से ठीक की जा सकती है। यह जरूर है कि कुछ मामलों में इस रोग का इलाज संभव नहीं है, पर ऐसे मरीज भी अपना खानपान और दिनचर्या बदलकर अपनी जिंदगी आसान तथा खुशहाल बना सकते हैं।

विटामिन A की कमी दूर करें

बहुत से लोगों को रतौंधी विटामिन A की कमी से होती है। इस कमी को बिना डॉक्टर को दिखाए भी दूर किया जा सकता है। इससे रतौंधी ठीक हो जाती है। विटामिन A के लिए पालक, गाजर, कद्दू, मीठे आलू, आम, अंडे और दूध आदि को आहार में शामिल करना चाहिए। इसके अलावा संतरा, पीले फल और सब्जियों में भी विटामिन A की प्रचुर मात्रा पाई जाती है।

मोतियाबिंद और ग्लूकोमा का इलाज

मोतियाबिंद (Cataracts) और ग्लूकोमा (Glaucoma) रतौंधी के प्रमुख कारण हैं। ये दोनों भी आंख की ही बीमारी है। जैसे ही इनका पता चले, डॉक्टर को दिखा इनका इलाज कराना चाहिए। इससे रतौंधी का खतरा नहीं रहता है। मोतियाबिंद में आंख का लेंस धुंधला (Cloudy) हो जाता है। इससे दृष्टि दोष आ जाता है और कम लाइट में दिखाई नहीं देता है। बुजुर्गों में इस बीमारी का खतरा ज्यादा होता है। इसके मरीजों को पानी ज्यादा पीना चाहिए। तनाव कम करने और धूम्रपान छोड़ने से भी इसमें लाभ मिलता है। इसका आखिरी इलाज सर्जरी ही है। इसमें ज्यादा समय नहीं लगता है, पर इसकी देखभाल कई हफ्तों तक करनी पड़ती है। रोशनी लौटने में कई महीने लग जाते हैं। ग्लूकोमा में ऑप्टिक तंत्रिका क्षतिग्रस्त होने से आंखों में दबाव बनता है। इससे आंख की रोशनी हमेशा के लिए भी जा सकती है। इसका पूरी तरह इलाज मुश्किल है, पर इसे नियंत्रित किया जा सकता है। इसकी सर्जरी होती है।

File photo

मायोपिया पर नियंत्रण

मायोपिया (Myopia) या नियरसाइटेडनेस (Nearsightedness) को निकटदृष्टि दोष भी कहा जाता है। इसमें पास की वस्तुएं स्पष्ट दिखती हैं पर दूर की चीजें धुंधली दिखाई देती हैं। यह तब होता है जब आंख के आकार के कारण प्रकाश की किरणें गलत तरीके से अपवर्तित (Refract) होती है। इससे इमेज का फोकस रेटिना पर न होकर रेटिना के सामने होता है। फली, बादाम, मछली, खट्टे फल, गाजर, मीठे आलू, हरी पत्तेदार सब्जियां और बीज आदि खाने से इसमें लाभ मिलता है। इसका पूरी तरह इलाज संभव नहीं है, पर डॉक्टर लेंस और ड्रॉप्स के जरिए इसे कारगर तरीके से नियंत्रित कर सकते हैं।

रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा में मुश्किल

रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा (Retinitis Pigmentosa) एक आनुवंशिक विकार है। इसमें रात या कम लाइट में देखने में परेशानी होती है। इसमें साइड विजन (Side Vision) बहुत कम हो जाता है। आम तौर पर बचपन में इसके लक्षण दिखते हैं। इस बीमारी में रेटिना को नुकसान पहुंचता है। इसका अब तक कोई इलाज नहीं है। हालांकि डॉक्टर इसका कारगर इलाज खोजने में लगे हुए हैं।

रतौंधी को ऐसे पहचानें

अगर रात को या डिम लाइट में देखने में परेशानी हो रही हो या रात में ड्राइविंग करते समय बहुत साफ दिखाई नहीं दे रहा हो तो आपको रतौंधी की बीमारी हो सकती है। इस बीमारी में अंधेरे से उजाले या उजाले से अंधेरे में आने के बाद खुद को इस स्थिति में समायोजित करने में समय लगता है। इसके अलावा आंखों या सिर में दर्द, जी मिचलाना और उल्टी होना भी रतौंधी के लक्षणों में शामिल है।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *