फ्रांस के इस मुर्गे के हक में खड़े हो गए लाखों लोग

मॉरीस ने जीती बड़ी लड़ाई, कोर्ट ने कहा-मुर्गे को बांग देने से आप नहीं रोक सकते

यह है फ्रांस का चार साल का मुर्गा मॉरीस (Rooster Maurice)। दो साल की कानूनी लड़ाई के बाद अब यह सेलेब्रिटी बन गया है। यह रोज सुबह 6:30 बजे बांग देता है। यह बात पड़ोस में रहने वाले एक दंपति को नागवार गुजर रही थी और उसने इसको लेकर कोर्ट में केस कर दिया। इस दंपति ने मुर्गे की बांग पर रोक लगाने की गुहार लगाई। लंबी चली सुनवाई के बाद आखिर कोर्ट ने मॉरीस को बरी कर दिया और कहा कि सुबह मुर्गे को बांग (Dawn Chorus) देने से नहीं रोका जा सकता। यह उसका प्राकृतिक अधिकार है। इस फैसले के बाद जानवरों के अधिकारों पर विश्वभर में एक नई चर्चा छिड़ गई है।

कोर्ट में पहुंचा मुर्गा

पश्चिम फ्रांस के ग्रामीण क्षेत्र ऑलेरॉन द्वीप पर रहने वाले मॉरीस के खिलाफ जब कोर्ट में मुकदमा चल रहा था तो 1, 40,000 लोगों ने इसके पक्ष में ऑनलाइन पिटीशन पर हस्ताक्षर किए। बहुत से लोगों ने अपनी टी-शर्ट आदि पर “I am Maurice” लिखकर सोशल मीडिया पर मुहिम चलाई। अमेरिका तक से मॉरीस के लिए मदद की पेशकश की गई। सुनवाई के दौरान एक समर्थक तो कोर्ट में मुर्गा लेकर पहुंच गई।

बच्चे का रोना स्वीकारना होगा

पांच सितंबर को आए कोर्ट के फैसले के बाद मॉरीस की मालकिन कॉरीन फेसेओ का कहना था ” यह उन सभी लोगों की जीत है, जो हमारी परिस्थिति में रहते हैं। मैं आशा करती हूं कि यह दूसरों के लिए मिसाल साबित होगा। सबकी अब सुरक्षा की जाएगी। चर्च की घंटियों, मेढ़क का टर्र-टर्र, गाय की घंटी और बच्चे का रोना कुछ ऐसी चीज हैं, जिन्हें आपको स्वीकारना ही होगा। अगर आप ऐसा नहीं कर सकते तो आप ग्रामीण इलाके में नहीं रह सकते।”

1,000 यूरो जुर्माना लगाया

मॉरीस के खिलाफ हॉलिडे होम के मालिक ने मुकदमा किया था। वो शहर से अपने इस दूसरे घर में रहने के लिए आए थे। उनका कहना था कि इस मुर्गे की आवाज से उनकी छुटियां खराब हो रही हैं। ट्रिब्यूनल ने उनकी इसकी दलील को खारिज कर दिया और उन पर मॉरीस की मालकिन की छवि को नुकसान पहुंचाने के लिए 1,000 यूरो जुर्माना लगाया। अब यह मुर्गा शान से रोज सुबह बांग दे रहा है !!

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *