यह सोशल मीडिया से ब्रेक का वक्त

इंग्लैंड की एक रिपोर्ट के बाद डिजिटल दुनिया में एक बड़ा सवाल खड़ा हो गया है कि क्या मोबाइल पर सोशल मीडिया की लत एक प्रकार की बीमारी है? इतना ही नहीं, अब इसके बाद हर मॉडर्न सोसाइटी में डिजिटल डेटॉक्स (इंटरनेट से मुक्ति या ब्रेक) की बात होने लगी है।

मानसिक बीमारी के लक्षण मिले

कई प्रमुख चिकित्सा विशेषज्ञ पहले से ही यह कहते आ रहे हैं कि आज के समय में तनाव या कई बीमारियों से मुक्ति का एक आसान तरीका है – कुछ समय के लिए सोशल मीडिया से मुक्ति। इंग्लैंड की इस रिपोर्ट ने चिकित्सकों की उक्त सलाह पर अब पूरी तरह से मुहर लगा दी है। गौर हो कि इंग्लैंड के सभी दलों के संसदीय समूह ने पिछले 18 मार्च को एक सिफारिश की है, जिसमें कहा गया है कि इंटरनेट की लत को एक बीमारी घोषित कर देनी चाहिए। इस समूह की ओर से प्रस्तुत पेपर में एक सर्वे का हवाला दिया गया है। इसमें कहा गया है कि 27 फीसदी बच्चे जो कि रोज 2 से 3 घन्टे इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे थे, उनमें मानसिक बीमारी के लक्षण पाए गए हैं।

इसलिए जरूरी है ब्रेक

चिकित्सकों के अनुसार बेहतर सेहत के लिए सोशल मीडिया से कुछ देर का ब्रेक काफी लाभदायक साबित हो सकता है। उनका कहना है कि इससे व्यक्ति आभासी दुनिया से बाहर निकलकर हकीकत की दुनिया के लिए ज्यादा समय दे पाता है। हकीकत की दुनिया को अनुभव करने के साथ ही देखा, छुआ और सुना जा सकता है। इसके अलावा गंध भी महसूस की जा सकती है। इस ब्रेक के माध्यम से आप खुद और दूसरों के लिए ज्यादा समय निकाल पाते हैं। यहां तक कि आपको सोने के लिए ज्यादा समय मिलता है।

ऐसे छूटेगी लत

सबसे जरूरी को चुनें

सबसे पहले यह तय करें कि किस सोशल मीडिया पर आपका ज्यादा समय जाया हो रहा। अब उनमें से सबसे जरूरी फंक्शन को शॉर्टआउट करें। इसके बाद बाकी गतिविधियों को रोज की दिनचर्या से हटा दें। इससे आप अपने लिए तो ज्यादा समय निकाल पाएंगे ही, आपके मोबाइल का डेटा भी बचेगा।

समय तय करें

सोशल मीडिया पर हमेशा या हर घन्टे-दो घन्टे पर सक्रिय रहने के बजाय एक समय निर्धारित करें। सुबह या शाम को कुछ समय तय करना ज्यादा बेहतर है। इससे काम पर भी कोई असर नहीं पड़ता है। सबसे अधिक आंखों को आराम मिलता है। नजदीक से मोबाइल फोन के ज्यादा प्रयोग से आंखों में सूखापन महसूस होता है। आगे चलकर इससे दृष्टि (Vision) पर भी असर पड़ सकता है।

तनाव बढ़ाने वाले एप हटाएं

ऐसे एप जिनके इस्तेमाल के बाद आपके मन में तरह-तरह के विचार आने लगते हैं या जो आपको चिंता या दुख में डाल देते हैं, उन्हें अपनी स्क्रीन से हटा दें। इससे आपको काफी शान्ति महसूस होगी। इसके बाद सकारात्मक विचार आते हैं। इनसे तरक्की की राह प्रशस्त होती है।

देर रात में मोबाइल से दूर रहें

सोशल मीडिया पर देर रात तक चिपके रहने से नींद पूरी नहीं हो पाती। इससे दिनभर थकान महसूस होती रहती है या नींद आती रहती है। इससे आप पूरी ऊर्जा से काम नहीं कर पाते हैं। नींद पूरी न होने से मोटापा बढ़ने समेत अन्य कई बीमारियों के होने का खतरा बना रहता है।

खुद को अनुशासित बनाएं

अनुशासन जिंदगी का सबसे बड़ा पाठ है। सारे प्रयत्नों के बाद अगर आप अपने को अनुशासित नहीं रख पाते हैं तो आपका सारी मेहनत बेकार हो जाती है। अगर एक बार तय कर लिया तो उस पर कायम रहें। गैर जरूरी पोस्ट या एप की तरफ आकर्षित न हों।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *