इजरायल के वैज्ञानिकों ने खोज लिया कैंसर का सफल इलाज

इजरायल के वैज्ञानिकों का दावा है कि उन्होंने कैंसर का इलाज खोज लिया है। अगले साल से यह मरीजों के लिए सुलभ होगा। यरुशलम पोस्ट में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार एक्सेलरेटेड एवोल्यूशन बायोटेक्नॉलॉजिज (AEBi) कंपनी के सीईओ इलान मोराद के नेतृत्व में एक टीम ने यह कारनामा कर दिखाया है। इसका दावा है कि यह कैंसर का अब तक का पहला संपूर्ण इलाज है।

पहले दिन से ही असर

कैंसर एंटी बॉयोटिक के समान इस नए उपचार का नाम दिया गया है मुटाटो (MuTaTo – Multi-target toxin)। इसमें कैंसर-लक्षित पेप्टाइड्स और टॉक्सिन के संयोजन का उपयोग किया जाता है, जिसके माध्यम से कैंसर कोशिकाएं खत्म कर दी जाती हैं। इसके बाद यह रोग पूरी तरह से ठीक हो जाता है और किसी तरह की दवा की आवश्यकता नहीं रह जाती है। कंपनी के चेयरमैन डान अरिडोर का कहना है कि “हमारे द्वारा खोजे गए कैंसर के उपचार का असर पहले दिन से ही दिखने लगेगा। यह उपचार भी कुछ ही दिनों का होगा। यह अब तक उपलब्ध कैंसर के अन्य उपचार से काफी सस्ता होगा। इसके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं हैं।”

चूहों पर प्रयोग में कामयाबी

यरुशलम पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार इलान मोराद का कहना है कि उनकी टीम ने कैंसर के इलाज की विधि का चूहों पर सफल परीक्षण कर लिया गया है। इससे चूहों की सेहत पर कोई प्रतिकूल असर नहीं पड़ा। अब यह इलाज जल्द लोगों के लिए उपलब्ध होगा।

1 करोड़ 81 लाख कैंसर के नए मरीज आते हैं हर साल विश्वभर में

6वें हर व्यक्ति की मौत दुनियाभर में हो जाती है कैंसर की बीमारी से

11 में से 1 महिला और 8 में से 1 पुरुष को कभी न कभी कैंसर होता है

दूसरा प्रमुख कारण है कैंसर मौत का, हृदय रोग से मौत सबसे अधिक

ऐसे होगा सटीक उपचार

इलाज की अनुसंधानकर्ता टीम ने इस बात का अध्ययन किया कि कैंसर से इलाज के पहले के सारे प्रयोग फेल क्यों हो जाते हैं। उसके बाद उनकी टीम इस बीमारी के खात्मे के उपाय की तरफ आगे बढ़ी। इसके बाद एक कैंसर कोशिका के लिए कई कैंसर-लक्षित पेप्टाइड्स का संयोजन तैयार किया गया। यह संयोजन ऐसी कोशिकाओं को जड़ से खत्म कर देता है। इसके बाद ये कोशिकाएं किसी भी सूरत में बढ़ नहीं पातीं।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *