आठ चमत्कारिक तेल, जो आपके चेहरे पर बुढ़ापा नहीं झलकने देंगे

दमकता चेहरा, गोरी त्वचा और दाग-धब्बे या झुर्रियां घटाने के लिए ढेर सारे कॉस्मेटिक का प्रयोग कर थक चुके हैं तो इन 8 में से किसी भी तेल को एक बार प्रयोग कर जरूर देखें। बहुत हद तक आपकी समस्या का समाधान खुद मिल जाएगा। ये प्राकृतिक तेल कई विटामिन और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। आपके चेहरे पर ये जल्द बुढ़ापे के लक्षण नहीं आने देते। इनके फायदे कई अलग-अलग अध्ययनों में वैज्ञानिक तौर पर प्रामाणित हो चुके हैं। इन तेलों के साइड इफेक्ट्स भी नहीं हैं, इसलिए अगर आपको एलर्जी नहीं है तो इनका प्रयोग कर ताउम्र जवान दिख सकते हैं। ये तेल इस प्रकार हैं :

1. लैवेंडर का तेल (Lavender Oil)

लैवेंडर का तेल कई तरह से फायदा करता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो फ्री रेडिकल्स (मुक्त कणों) से हमारी त्वचा को बचाते हैं। यह तेल बैक्टीरिया रोधी होता है। इससे चेहरे के दाग-धब्बे और झुर्रियों को मिटाने में काफी मदद मिलती है। इससे खुजली और त्वचा का सूखापन खत्म होता है। यह तेल त्वचा के छोटे घावों को भर देता है। इसे दिन में दो बार चेहरे पर लगाना चाहिए। नारियल के तेल में मिलाकर भी इसका प्रयोग किया जा सकता है।

2. जोजोबा का तेल (Jojoba Oil)

जोजोबा के तेल में विटामिन E की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। यह दाग-धब्बों को भरने का काम करता है। इसके प्रयोग से चेहरे पर बनने वाली झुर्रियों में काफी कमी आती है। जोजोबा का तेल त्वचा को काफी नम रखता है। सनबर्न से बचने के लिए यह तेल खास तौर से उपयोगी है। इससे बाहरी प्रदूषण से त्वचा की रक्षा होती है। इसमें बिना कोई अन्य तेल मिलाए सीधे भी लगाया जा सकता है।

3. खुबानी का तेल (Apricot Oil)

खुबानी का तेल को एन्टी एजिंग (Anti Aging) या बुढ़ापा रोधी तेल के तौर पर जाना जाता है। इसमें विटामिन A, E और एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। इससे चेहरे के दाग-धब्बे और झुर्रियां खत्म हो जाती हैं। खुबानी के तेल में विद्यमान पॉलमिटिक एसिड त्वचा को मुलायम बनाए रखने का काम करता है। इस तेल में थोड़ा शुगर मिलाकर चेहरे पर स्क्रब करने से काफी चमक आती है और डार्क सर्कल्स हट जाते हैं।

4. अंगूर के बीज का तेल (Grapeseed Oil)

अंगूर के बीज का तेल त्वचा के लिए बहुत लाभकारी है। इसमें विटामिन E के साथ-साथ ओमेगा-6 फैटी एसिड भी पाया जाता है। ये दोनों सनबर्न (Sunburn) और बाहरी प्रदूषण आदि से हमारी त्वचा की रक्षा करते हैं। इससे त्वचा हल्की होती है और दाग-धब्बे कम होते हैं। रोज रात में सोने से पहले और सुबह अंगूर के बीज का तेल चेहरे पर लगाने से काफी लाभ मिलता है।

5. ऑर्गन का तेल (Argan Oil)

आर्गन के तेल को बेस्ट मॉइस्चराइजर के तौर पर जाना जाता है। यह त्वचा में नमी को बरकरार रखता है। इसी खासियत के चलते विभिन्न कॉस्मेटिक उत्पादों जैसे लोशन, शैम्पू, साबुन या हेयर कंडीशनर में इसका प्रयोग किया जाता है। यह बैक्टीरिया को रोकने के साथ ही त्वचा के घावों को भरता है। ऑयली त्वचा वाले लोगों को इस तेल का जरूर प्रयोग करना चाहिए, इससे उनकी त्वचा ठीक दिखने लगती है। यह तेल त्वचा को मुलायम और बुढ़ापे के लक्षणों को दूर रखता है। इस तेल को बिना कुछ मिलाए सीधे भी लगाया जा सकता है।

6. एवाकाडो का तेल (Avocado oil)

एवाकाडो के तेल में प्रोटीन, बीटा कैरोटिन, फैटी एसिड, विटामिन A, D और E पाया जाता है। यह तेल त्वचा को हाइड्रेट और मॉइस्चराइज करता है। त्वचा का रुखापन दूर होने से यह कोमल और चमकीली बनी रहती है। इसके प्रयोग से खुजली आदि की दिक्कत भी दूर होती है। एक अध्ययन में पाया गया कि एवाकाडो का तेल लगाने वालों के त्वचा से जुड़े घाव तेजी से भर गए। इस तेल को सीधे लगाने के अलावा शॉवर लोशन आदि में मिलाया जा सकता है।

7. अनार दाने का तेल (Pomegranate Seed Oil)

मसाज ऑयल के रूप में अनार के दाने का तेल बहुत ही प्रसिद्ध है। यह तेल कोलेजन उत्पादन में वृद्धि करता है, जिससे त्वचा की कोमलता बरकरार रहती है। सूखी त्वचा वालों को इस तेल का इसलिए प्रयोग करना चाहिए, क्योंकि यह त्वचा की नमी को बेहतर तरीके से कायम रखता है। इससे चेहरे के दाग-धब्बे दूर होते हैं। इस तेल को दिनभर में एक बार लगाना काफी होता है।

8. रोजहिप तेल (Rosehip Oil)

रोजहिप तेल गुलाब की पंखुड़ियों की बजाय उसके बीज से बनाया जाता है। इसमें लिनोलेनिक एसिड पाया जाता है, जो त्वचा की नमी को बरकरार रखता है। इस तेल में विटामिन A और विटामिन C की मौजूदगी के चलते यह स्किन को चमकदार और जीवंत बनाए रखता है। इसका पाउडर भी आता है। एक अध्ययन में सामने आया कि जो लोग रोजहिप पाउडर का इस्तेमाल कर रहे थे, उनकी त्वचा काफी मुलायम थी।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *