मधुमक्खी पालें, 14 लाख तक कमाएं

बेरोजगारी को मात देने का बहुत ही आसान जरिया है-मधुमक्खी पालन। इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए न तो ज्यादा पैसे की जरूरत पड़ती है, न ही कोई बहुत बड़े अतिरिक्त इंतजाम की। इसे गार्डन या किसी खाली स्थान पर शुरू किया जा सकता है। इसके लिए किसी लम्बी अवधि के प्रशिक्षण की भी जरूरत नहीं है। मधुमक्खी पालन से 14 लाख रुपये आसानी से कमाया जा सकता है। इस व्यवसाय को बढ़ाकर आमदनी दोगुनी की जा सकती है और कई लोगों को रोजगार भी दिया जा सकता है। मधुमक्खी पालन वहां अच्छे तरीके से हो सकता है, जहां आसपास फूल ज्यादा हों। जितना अधिक फूलों का रस उपलब्ध होगा, मधुमक्खियां उतना ही अधिक शहद बनाएंगी। इसलिए मधुमक्खी पालन के साथ-साथ फूलों की खेती भी की जा सकती है। मधुमक्खी पालन के दौरान उत्पन्न होने वाली मोम को भी आप अलग से बेच सकते हैं।

ऐसे शुरू करें

मधुमक्खी पालन के लिए सबसे पहले खाली जमीन की आवश्यकता पड़ती है। यह जमीन साफ-सुथरी होनी चाहिए। यहां पर्याप्त मात्रा में पानी, हवा और धूप की व्यवस्था होनी चाहिए। इस जगह पर ज्यादा नमी या पानी का जमाव नहीं होना चाहिए। यह सुनिश्चित करें कि इस जगह पर चींटी या दीमक न लगें।

इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए सबसे पहले मधुमक्खी पालन बॉक्स खरीदने की जरूरत पड़ती है। इस बॉक्स के साथ ही मधुमक्खियां भी मिलती हैं। इटैलियन या यूरोपियन मधुमक्खी खरीदना ज्यादा बेहतर होता है। यह ज्यादा शहद बनाती है। इस मधुमक्खी को एपिस मेलिफेरा भी कहते हैं। देसी मधुमक्खी एक वर्ष में औसतन 10 किलोग्राम तक ही शहद बनाती है, जबकि एपिस मेलिफेरा 50 किलोग्राम तक शहद बना लेती है।

इन सामग्री की जरूरत

मधुमक्खियों के छत्ते से शहद निकालने के लिए एक मशीन की जरूरत पड़ती है। आप जितने बड़े स्तर पर इस व्यवसाय को शुरू करना चाहते हैं, उतनी ही बड़ी मशीन ले सकते हैं। यह मशीन 3,000 से लेकर 30,000 तक रुपये में मिल जाती है। इसके अलावा चाकू, मोम शीट, दस्ताने और ड्रम आदि की आवश्यकता पड़ती है। मधुमक्खी पालन का उपयुक्त समय अक्टूबर या फरवरी महीना है। इस दौरान फूलों की भरमार होती है। मधुमक्खियों में से रानी मक्खी ही अंडे देने का काम करती है, इसलिए खरीदते समय यह देखें कि यह रोगमुक्त हो। व्यवसाय की शुरुआत छोटे स्तर (10-25 बॉक्स) से करना ज्यादा ठीक होता है। अनुभव के साथ इसे आगे बढ़ाते जाएं। 25 बॉक्स से व्यवसाय शुरू करने पर करीब 60,000 की लागत आएगी।

शहद तैयार करने की विधि

शहद तैयार करने के लिए खरीदे गए बॉक्स को खुली जगह में रख दिया जाता है। इन बॉक्स की दूरी करीब 10 फीट होनी चाहिए। बॉक्स को एक से दूसरे स्थान पर ले जाने में खास सावधानी बरतने की जरूरत होती है। इन बॉक्स की देखभाल मौसम के अनुसार करने से शहद का उत्पादन ज्यादा होता है। गर्मी में बॉक्स को छाये में रखना उचित होता है। इसके ऊपर बोरी गीली करके भी आप रख सकते हैं। बरसात के मौसम में बॉक्स को धूप में जरूर रखें जबकि जाड़े में इन्हें बोरियों से ढक दें। ज्यादे शहद के लिए मधुमक्खियों को चीनी का घोल दिया जाता है। बसंत ऋतु में शहद निकालना अच्छा होता है। इसके लिए मधुमक्खी पालन के लिए रखे गए बॉक्स से छत्ते निकालकर उन्हें मशीन डालकर चलाया जाता है। इस दौरान इससे निकलने वाली शहद को डिब्बे या टिन में भर लिया जाता है। शहद की गुणवत्ता जितनी अच्छी होगी, उतनी ही उसकी कीमत लगती है।

बिक्री के लिए यहां करें संपर्क

शहद की बिक्री के लिए अपने आसपास स्थानीय बाजार तलाश सकते हैं। बड़े पैमाने की खपत के लिए पैक्ड शहद की बिक्री करने वाली कम्पनियों से संपर्क किया जा सकता है। फेसबुक समेत कई सोशल मीडिया पर नेचुरल हनी ग्रुप बने हुए हैं। इससे जुड़कर भी आप शहद की बिक्री कर सकते हैं।

कमाई का गणित

मधुमक्खी के एक बॉक्स से 40-50 किलोग्राम तक शहद प्राप्त कर सकते हैं। इसकी बाजार में कीमत 100 से 150 रुपये प्रति किलोग्राम तक मिल जाती है। इस तरह एक डिब्बे से 6 से 7,500 रुपये मिलते हैं। 25 बॉक्स से करीब 2 लाख रुपये तक की आय हो सकती है। धीरे-धीरे इन बॉक्स की संख्या आप 250 तक कर 20 लाख रुपये का व्यवसाय खड़ा कर सकते हैं। इसमें आप खर्च के 6-7 लाख रुपये निकाल दें तब भी 13-14 लाख का फायदा होता है।

मदद यहां से लें

मधुमक्खी पालन व्यवसाय के लिए नेशनल बी बोर्ड (National Bee Board) की वेबसाइट से जाकर संपर्क किया जा सकता है। खादी एंड विलेज इंडस्ट्रीज कमीशन (Khadi and Village Industries Commission) की वेबसाइट से भी प्रशिक्षण और व्यवसाय से जुड़ी अन्य मदद ले सकते हैं। अधिकतर प्रदेशों में मधुमक्खी को बढ़ावा देने के लिए स्थानीय सरकार मदद दे रही है। इसके लिए प्रदेश के मुख्यालय से जानकारी जुटाई जा सकती है।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *