रोज इतना दूध पीएंगे, तब दिखेगा इसका 100 % फायदा

अनेक पोषक तत्वों से भरपूर होने के कारण दूध (Milk) के फायदे बहुत हैं, पर इसका 100 प्रतिशत लाभ तभी पहुंच पाता है जब आपको पता हो कि प्रतिदिन किसके लिए कितना दूध पीना जरूरी होता है। निर्धारित मात्रा से कम दूध लेने से शरीर को पूरे पोषक तत्व नहीं मिल पाते, वहीं ज्यादा दूध जानलेवा भी साबित हो सकता है। गौर हो कि दूध में प्रोटीन, कैल्शियम, पोटैशियम, विटामिन D, विटामिन B12, रिबोफ्लेविन, सेलेनियम और फॉस्फोरस की प्रचुर मात्रा पाई जाती है।

हर उम्र के लिए अलग फॉर्मूला

अमेरिका के कृषि विभाग की ओर से आहार संबंधी जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार 2 से 3 वर्ष तक के बच्चों को रोज 2 कप और 4 से 8 वर्ष तक के बच्चों को 2.5 कप दूध पीना चाहिए। 9 से 18 या इसके ऊपर उम्र वालों को प्रतिदिन 3 कप दूध लेना मानक के अनुरूप है। अमेरिकन अकादमी ऑफ पीड्रियाट्रिक्स के अनुसार 1 साल तक के बच्चों को गाय का दूध नहीं देना चाहिए, उनके लिए मां का दूध सबसे अच्छा होता है। गाय के दूध में बच्चे की मां के दूध के मुकाबले आयरन (Iron) कम होता है। ध्यान रखें, बड़े या छोटे किसी के लिए भी पीने का दूध फैट-फ्री (Fat-free) या लो-फैट (Low Fat) हो तभी इसका असली फायदा है।

ज्यादा दूध पीने के ये हैं खतरे

ज्यादा दूध के असर को लेकर कुछ समय पहले स्वीडन में करीब एक लाख लोगों पर अध्ययन किया गया। इसमें 39 से 74 वर्ष की 60 हजार महिलाएं और 45 से 79 वर्ष के 45 हजार पुरुष शामिल थे। अध्ययन के दौरान पाया गया कि जिन लोगों ने प्रतिदिन 3 ग्लास या उससे अधिक दूध का सेवन किया, उन्हें न सिर्फ हड्डियों में फ्रैक्चर या हिप फ्रैक्चर (Hip fracture) की आशंका ज्यादा थी बल्कि उनको मौत का खतरा भी अधिक था। इसमें यह भी सामने आया कि यह खतरा पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को ज्यादा था।

दूध के 5 मुख्य फायदे

1. हड्डियों को मजबूती

दूध न सिर्फ हड्डियां बल्कि दांतों के लिए भी फायदेमंद है। इसमें पाए जाने वाले कैल्शियम और विटामिन D हड्डियों को मजबूती प्रदान करने का काम करते हैं। कैल्शियम और विटामिन D के चलते ओस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) का खतरा कम होता है। इस रोग में हड्डियां बहुत कमजोर हो जाती हैं। इसके अलावा फॉस्फोरस और पोटैशियम भी हड्डियों के लिए लाभकारी साबित होता है।

250 मिलीलीटर दूध में जितनी मात्रा में कैल्शियम होता है, उतनी मात्रा पाने के लिए 2.5 कप उबली हुई पालक या 6 कप उबली हुई ब्रोकली या 115 ग्राम साबुत बादाम लेना पड़ता है।

2. मांसपेशियों का विकास

गाय के दूध में प्रोटीन की समुचित मात्रा पाई जाती है, जिसमें सभी जरूरी एमिनो एसिड होते हैं। प्रोटीन कमजोर मांसपेशियों के संरक्षण और विकास में काफी मददगार साबित होता है। हमारे मेटाबॉलिज्म को बेहतर रखने के लिए मांसपेशियों का सही सलामत रहना काफी महत्वपूर्ण होता है।

3. हृदय की बीमारियों से राहत

एक कप दूध के अंदर करीब 10 प्रतिशत पोटैशियम होता है। यह ब्लड प्रेशर घटाने का काम करता है। डॉक्टरों के अनुसार रोज हमें 4700 मिलीग्राम पोटैशियम लेना चाहिए। यह दूध के अलावा अन्य खाद्य पदार्थों जैसे पालक, बीन्स, टमाटर, केला और संतरे में भी पाया जाता है। पोटैशियम की सही मात्रा बने रहने से हृदय संबंधी रोगों का खतरा काफी कम हो जाता है।

4. कैंसर की आशंका घटाए

अमेरिका के नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट के अनुसार ज्यादा मात्रा में कैल्शियम का सेवन कैंसर के खतरों को घटाने में मददगार होता है। विटामिन D भी इसमें काफी कारगर होता है। दूध में इन दोनों की मौजूदगी पर्याप्त मात्रा में होती है। 244 ग्राम दूध के अंदर 28 प्रतिशत कैल्शियम और 24 प्रतिशत विटामिन D पाया जाता है।

5. वजन पर नियंत्रण

दूध वजन घटाने के साथ-साथ वजन बढ़ने से भी रोकता है। दूध में प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा के चलते इसके सेवन से काफी समय तक भूख कम महसूस होती है, इसलिए बार-बार या ज्यादा खाने से बचाव हो जाता है। कैल्शियम को आहार में लेने से शरीर में फैट के जमा होने से बचाव होता है। इससे शारीरिक बनावट सही रहती है।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *