गुस्से को इन 7 उपायों से काबू करें

गुस्सा यानि क्रोध (Anger) एक स्वभाविक अनुभूति है। सामान्य तौर पर ऐसी स्थिति चिंता का कारण नहीं बनती। दिक्कत तब शुरू होती है जब यह गुस्सा फट (Outburst) पड़ता है। इससे सामने वाला तो दुखी होता ही है, व्यक्ति खुद का बहुत बड़ा नुकसान कर बैठता है। यूरोपियन सोसाइटी ऑफ कार्डियोलॉजी की एक रिपोर्ट के अनुसार गुस्सा हार्ट अटैक, स्ट्रोक और हृदय संबंधी अन्य परेशानियां भी बढ़ा देता है। इसलिए गुस्से को जिसने काबू कर लिया, वह सफल है। इस पर नियंत्रण के ये हैं 7 आसान उपाय।

1. लंबी सांस लें और छोड़ें

जब भी आपको गुस्सा आए, थोड़ी देर के लिए शान्त होने का प्रयास करें। अंदर की तरफ सांस खींचें और उसे थोड़ा रोकते हुए लंबी सांस बाहर की तरफ छोड़ें। दूसरों से थोड़ी दूर अकेले बैठने का प्रयास करें। इससे आप अपनी भावनाओं पर काबू पा सकते हैं, साथ ही अगले रूटीन को शांत भाव से प्लान कर सकते हैं।

2. माफ करने का प्रयास

जिस व्यक्ति पर आप गुस्सा कर रहे हैं, उसे माफ करने का प्रयास करें। इस बात को अपने जीवन में उतारें कि माफ करने वाला व्यक्ति हमेशा बड़ा होता है। अगर फिर भी आप माफ न कर सकें तो माफ करने का नाटक करें, इससे भी आपका गुस्सा कम होता है। ऐसा करने से सामने वाले की नजर में आपकी छवि बड़ी बनती है।

क्रोध से मूढ़ता उत्पन्न होती है। मूढ़ता से स्मृति भ्रांत हो जाती है। स्मृति भ्रांत होने से बुद्धि का नाश हो जाता है और बुद्धि नष्ट होने पर प्राणी स्वयं नष्ट हो जाता है।

-भगवान श्री कृष्ण

3. बात करना बंद करें

जब लगे कि आपका गुस्सा आपे से बाहर हो रहा है तो कुछ समय के लिए बात करना बंद कर दें। यहां तक कि अपने दोस्त या नजदीकी व्यक्ति से भी कोई बात न करें। ऐसा सोचें कि आपका मुंह सिल दिया गया है। इससे आपका गुस्सा थोड़ी देर में अपने आप शांत हो जाएगा। मांसपेशियों को भी थोड़ा रिलेक्स देकर क्रोध पर काबू पाया जा सकता है।

4. बोलने से पहले सोचें

गुस्से के समय कुछ भी बोलने से पहले कई बार सोचें। ऐसे में बेहतर यह होता है कि कोई भी विचार व्यक्त करने में कुछ समय लगाएं। इससे उग्र भावनाओं पर विराम लगता है। दूसरों की आलोचना से बचने का प्रयास करना चाहिए। उल्टे दूसरों की मदद से खुशी मिलती है। समस्याओं को ‘मैं’ से जोड़कर देखें। खुद जिम्मेदारी उठाने से भी क्रोध कम होता है।

5. काउंटिंग करें

जब भी गुस्सा आए, काउंटिंग शुरू कर दें। 1 से लेकर 10 तक गिनती गिनें या 100 से नीचे की तरफ गिनना प्रारंभ करें। इससे ध्यान बदलता है। चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार इस क्रिया से हृदय गति धीमी हो जाती है और गुस्से को कम करने में मदद मिलती है। इससे मिलती-जुलती दूसरी क्रिया भी अपनाई जा सकती है।

क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के समान है, इसमें आप ही जलते हैं।

-गौतम बुद्ध

6. हास्य या मनोरंजन का सहारा

स्वस्थ मनोरंजन से भी गुस्सा या टेंशन रिलीज होता है। अगर हास्य का सहारा लेते हैं तो यह काम और भी जल्दी हो सकता है। संगीत भी इसमें काफी सहायक होता है। ऐसी बातों या रूटीन को भी त्यागना चाहिए जिससे बार-बार गुस्सा आता हो। इससे आपके विचारों या भावनाओं को कदापि ठेस नहीं पहुंचेगी और आप प्रसन्न रह सकेंगे।

7. एक्सरसाइज के लिए समय निकालें

एक्सरसाइज भी गुस्से को शांत करने में बहुत मददगार साबित होता है। इसमें शारीरिक एक्सरसाइज ज्यादा कारगर है। तेज दौड़ने और स्विमिंग या साइकिलिंग आदि से भी क्रोध की भावना कम होती जाती है। इस तरह की क्रियाओं को आनंद के साथ करने वालों के पास गुस्सा दूर तक नहीं फटकता।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *