मुरथल का अमरीक सुखदेव ढाबा : यहां परांठे के अलावा बहुत कुछ है खास

दिल्ली-एनसीआर के भीड़ भरे और ऑफिस के तनाव के माहौल से ऊब गए हैं तो आ जाइए एनएच-1 स्थित मुरथल के अमरीक सुखदेव ढाबे (Amrik Sukhdev Dhaba) में। यहां के परांठे (Paranthe) आपका टेस्ट बदल देंगे। परांठों की यहां एक से एक वेरायटी मिलेगी। इसके अलावा नार्थ इंडियन, साउथ इंडियन, चायनीज और कॉन्टिनेंटल फूड तथा यहां की स्पेशल थाली बहुत ही जायकेदार होती है।

ढाबे का इतिहास

अमरीक सुखदेव ढाबे की शुरुआत 1956 में सरदार प्रकाश सिंह ने की थी। यह ढाबा मुख्यतः ट्रक ड्राइवरों की जरूरतों को ध्यान में रखकर शुरू किया गया था। समय के अनुसार इस ढाबे की ख्याति बढ़ती गई और इसी के साथ यहां लोगों की भीड़ होने लगी। सन 2000 में इस ढाबे को काफी मॉडर्न बना दिया गया। यहां व्यंजनों की वेरायटी भी सभी लोगों को ध्यान में रखते हुए बढ़ा दी गई। अब इस ढाबे को प्रकाश सिंह के बेटों अमरीक सिंह और सुखदेव सिंह द्वारा चलाया जाता है।

ये हैं खासियत

इस रेस्टोरेंट ( Restaurant) में एक साथ 500 लोगों के बैठने की व्यवस्था है। यहां 300 से 400 कर्मचारी काम करते हैं। कोरोना काल को छोड़ दें तो यहां रोज 8 से 10 हजार लोग खाने के लिए आते हैं। वीकेंड में यहां भीड़ बढ़ जाती है और यह संख्या 12 से 13 हजार तक पहुंच जाती है। इसीलिए वीकेंड में यहां जाने से बचना चाहिए। यहां जाने से पहले फोन पर अपनी सीट बुक कराना बेहतर होता है।

देसी घी का खाना

अमरीक सुखदेव ढाबे के खाने की खासियत यह है कि इसे देसी घी में बनाया जाता है। इसके अलावा मूंगफली और सरसों के तेल का प्रयोग किया जाता है। खानों में सेंधा नमक (Rock salt) प्रयुक्त होता है। खाना बनाने के लिए यहां पीतल (Brass) के बर्तनों का प्रयोग होता है।

उपलब्ध व्यंजन

ढाबे पर आलू परांठा, गोभी परांठा, पनीर परांठा, सब्जी, दाल, राइस, पिज्जा, बर्गर, स्वीट डिश, पास्ता, कॉफी, कोल्डड्रिंक आदि सभी तरह के स्नैक्स और फूड उपलब्ध होते हैं।

परांठे और स्पेशल थाली के रेट

परांठे यहां आपको 90 से 100 रुपये के बीच में मिल जाते हैं। प्लेन राइस 120 और प्लेन रोटी 28 रुपये की है। इंडियन थाली यहां आपको काफी किफायती रेट 260 रुपये में मिल जाएगी।

खुलने के दिन

24 घन्टे, सातों दिन

स्थान और संपर्क
जीटी रोड, मुरथल, सोनीपत, हरियाणा-131039

फोन नंबर
+91-130-65440166

+91-130-2475585

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *