बर्फबारी (Snowfall) के लुत्फ के लिए 7 सबसे अच्छी जगह

कड़ाके की सर्दी, कंपकंपी छुड़ा देने वाली ठंडी हवाएं और आसमान से टपकते बर्फ के फाहों के बीच अगर मस्ती करने की सोच रहे हैं तो ये 7 स्थान आपके लिए सबसे अच्छे हो सकते हैं। जाड़े में यहां बर्फबारी (Snowfall) देखने से भी ज्यादा महसूस करने वाली होती है। भारत आने वाला हर विदेशी भी इन स्थानों पर कम से कम एक बार जाने की हसरत जरूर रखता है। यहां पहुंचना बहुत आसान है। जब भी जाएं, परिवार के साथ जाएं, आपका रोमांच दोगुना हो जाएगा।

1. गुलमर्ग (Gulmarg)

जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिला स्थित गुलमर्ग उत्तर भारत का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। इसे एशिया का सातवां बेस्ट स्की (Ski) डेस्टिनेशन के तौर पर जाना जाता है। श्रीनगर से यहां की दूरी करीब 50 किलोमीटर है, पर पहुंचने में 2 घन्टे 30 मिनट लग जाते हैं। स्कीइंग के अलावा यहां ट्रैकिंग, स्नोबोर्डिंग और केबल राइड का आनंद उठाया जा सकता है।कंचनजंघा और पीर पंजाल की पहाड़ियों का अति मनोरम नजारा कभी न भूलने वाला लम्हा होता है। बर्फबारी देखने के लिए दिसंबर से मार्च तक का महीना सबसे अच्छा माना जाता है।

2. युमथांग (Yumthang)

उत्तरी सिक्कम स्थित युमथांग में सालभर बर्फ पड़ती है। यहां घूमने जाने के लिए अक्टूबर से नवंबर तक का समय बेहतर होता है। ज्यादा बर्फबारी के चलते युमथांग को दिसंबर से मार्च तक बंद करना पड़ता है। जब भी यहां जाएं या बुकिंग कराएं तो पहले पता कर लें कि यहां रास्ते खुले हैं कि नहीं। इस जगह पर बहुत ज्यादा ठंड होती है, इसलिए ज्यादा गर्म कपड़े लेकर जाना अच्छा रहता है। युमथांग को वैली ऑफ फ्लावर्स (Valley of flowers) के तौर पर भी जाना जाता है, इस तरह के दृश्य फरवरी से मध्य जून तक में देखने को मिलते हैं। गंगटोक से यहां पहुंचने के लिए पहले लाचुंग (Lachung) जाना पड़ता है। फिर लाचुंग से युमथांग पहुंचने में करीब 2 घन्टे लगते हैं।

3. पटनीटॉप (Patnitop)

 

जम्मू-कश्मीर के उधमपुर जिला स्थित पटनीटॉप की जम्मू से दूरी करीब 112 किलोमीटर है। यहां दिसंबर से मार्च के बीच खूब स्नोफॉल होता है। हिमालय की शिवालिक बेल्ट में स्थित इस पर्यटन स्थल पर स्कीइंग और समुद्र तल से करीब 2024 मीटर की ऊंचाई पर पैराग्लाइडिंग का लुत्फ उठाया जा सकता है। नत्थाटॉप और नाग मंदिर यहां घूमने लायक जगह है। गर्मी और मानसून सीजन में भी यहां काफी पर्यटक पहुंचते हैं।

4. रोहतांग पास (Rohtang Pass) और मनाली (Manali)

हिमाचल प्रदेश स्थित रोहतांग पास बर्फबारी देखने और अनुभव करने के लिए बहुत ही सुंदर स्थान है। यह मनाली (Manali) से करीब 51 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, इसलिए इन दोनों जगहों का टूर एक साथ किया जा सकता है। रोहतांग पास मई से नवंबर तक खुला रहता है। यहां जाने से पहले इसके खुले होने के बारे में पता जरूर कर लें। यहां बर्फीले तूफान की वजह से अक्सर ब्लॉकेज रहती है। मनाली टूर के दौरान स्कीइंग, ट्रैकिंग, राफ्टिंग और याक की सवारी के साथ-साथ पीर पंजाल की खूबसूरत वादियों का नजारा लिया जा सकता है। मनाली अक्टूबर से मार्च के बीच कभी भी जाना ठीक होता है।

5. शिमला (Shimla)

 

हिमाचल प्रदेश स्थित शिमला प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। सालभर यहां पर्यटकों की भीड़ रहती है, पर स्नोफॉल का लुत्फ लेना हो तो यहां दिसंबर-जनवरी में जाना ठीक रहता है। माल रोड और रिज पर बर्फबारी के बीच घूमना और सेल्फी लेना एक शानदार अनुभव होता है। इन दोनों जगहों पर कई फिल्मों की शूटिंग भी हो चुकी है। शिमला टूर के दौरान इसके पास स्थित कुफरी, मसोबरा और जाखू आदि भी घूमा जा सकता है।

6. नैनीताल (Nainital)

नैनीताल उत्तराखंड का प्रसिद्ध हिल स्टेशन (Hill station) है। अक्टूबर से फरवरी तक यहां कभी भी घूमने जाया जा सकता है। यहां की खूबसूरत वादियों के बीच रोपवे का सफर बहुत ही रोमांचकारी होता है। 8,622 फीट की ऊंचाई वाली नैना की चोटियां स्नोफॉल के बीच दिलकश नजारा उपस्थित करती हैं। नैना लेक और बहुत ही ऊंचाई पर स्थित जीबी पंत चिड़ियाघर यहां पर्यटकों के खास आकर्षण हैं। पंतनगर और रुद्रपुर नैनीताल के नजदीकी एयरपोर्ट हैं।

7. मुनस्यारी (Munsiyari)

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में पड़ने वाले मुनस्यारी को छोटे कश्मीर की संज्ञा दी जाती है। स्नोफॉल के बावजूद किसी तरह की दिक्कत न होने के कारण पर्वतरोही इसे बेस कैंप की तरह इस्तेमाल करते हैं। गोरी गंगा नदी के किनारे स्थित मुनस्यारी टूर के दौरान मिलम और राल्म ग्लेशियर (Glacier) भी देखा जा सकता है। यह टूर तब तक पूरा नहीं माना जाता जब तक कि आप सरमोली, डार्कॉट गांव, खालिया चोटी और हेरिटेज म्यूजियम न घूम लें। दिसंबर और फरवरी में यहां की ट्रिप बेहद अच्छी मानी जाती है।

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *