Video : मिर्गी का रात में दौरा पड़ा तो बज उठेगा अलार्म

मिर्गी (Epilepsy) का दौरा किसी को भी पड़ सकता है। यह बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है। खतरनाक स्थिति तब होती है जब इसके मरीजों को नींद में दौरे पड़ते हैं और उनके परिजनों को या तो इसका पता नहीं चल पाता या बहुत बाद में पता चलता है। जबकि पड़ने वाले दौरों की अवधि और कितनी बार ये हुए, इनको रिकॉर्ड किया जाना इलाज में जरूरी होता है। इसी समस्या को देखते हुए नीदरलैंड की एक कंपनी ने एक नाइटवॉच (NightWatch) तैयार किया है, जो इस मुश्किल को काफी आसान बना देगी। यह वॉच डॉक्टरों और मेडिकल बोर्ड द्वारा पूरी तरह से प्रमाणित है। इसको तैयार करने में क्राउडफंडिंग (Crowdfunding) और कई एंटरप्रिन्योर्स का की मदद ली गई।

ऐसे काम करती है वॉच

मिर्गी के मरीजों के लिए खास तौर पर डिजाइन की गई यह वॉच अपना काम तब शुरू करती है, जब मरीज बेड पर सोने चला जाता है। इस वॉच को मिर्गी के रोगी की बांह में पहना दिया जाता है। ध्यान रखें इस वॉच को हमेशा बांह के ऊपरी हिस्से में ही पहनाएं, तभी यह सही सिग्नल दे पाती है। यह वॉच एक वायरलेस बेस स्टेशन (एक छोटा उपकरण) से जुड़ी होती है। यह बेस स्टेशन 20 मीटर के दायरे में होना चाहिए। यह आम तौर पर मरीज के परिजनों या उसके देखभाल करने वाले के कमरे में लगी होती है। रात में जैसे ही मरीज को दौरा पड़ता है, दूसरे कमरे में रखे उपकरण का अलार्म बजने लगता है। इस तरह दौरों का तुरंत पता चल जाता है। इन दौरों की सूचना या अलर्ट के लिए नाइटवॉच को मोबाइल से भी कनेक्ट किया जा सकता है। इस वॉच के माध्यम से इन दौरों का एक रिकॉर्ड भी तैयार होता रहता है। इस नाइटवॉच को चार्ज किया जा सकता है। एक बार चार्ज करने पर यह वॉच 10 से 16 घंटे तक चलती है।

वॉच को यहां से मंगाएं

नाइटवॉच को LivAssured B.V. कंपनी ऑनलाइन सप्लाई करती है। फिलहाल यह सुविधा यूरोप के देशों तक ही उपलब्ध है, लेकिन आप अगर इसे मंगाना चाहते हैं तो यहां संपर्क कर सकते हैं :

LivAssured B.V.
Schipholweg 103
2316XC Leiden
The Nederlands
Tel. : +31 (0) 85 0601252

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *