लाल किला घूमने जाने से पहले यह जरूर जान लें

देश की आजादी का प्रतीक लाल किला (Red Fort) घूमने (Trip) जाने की सोच रहे हैं तो पहले इसके बारे में कुछ जानकारी जरूर हासिल कर लें। छोटी सी जानकारी का अभाव या सतर्कता न बरतने से यहां जाकर परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। ये हैं ध्यान रखने वाली महत्वपूर्ण बातें :

सोमवार को बंदी

लाल किला सोमवार को छोड़कर हफ्ते के सारे दिन खुला रहता है। यह सुबह 9:30 बजे खुल जाता है। इसमें प्रवेश का आखिरी समय शाम 4:30 बजे का है। भीतर जाने के बाद देर तक घूमा जा सकता है, क्योंकि किला रात को नौ बजे बंद होता है। यहां सुबह के समय जाना ठीक रहता है, क्योंकि शाम को भीड़ ज्यादा होती है। किले के भीतर घूमने में देर हो सकती है, इसलिए यहां के लिए पर्याप्त समय लेकर ही निकलें।

सामान लेकर न जाएं

किले में घुसने से पहले चेकिंग होती है। इसके लिए पुरुषों और महिलाओं की अलग-अलग लाइन लगती है। अंदर छोटा पर्स या बैग लेकर जा सकते हैं, ज्यादा सामान होने पर उसे काउंटर पर जमा करवाना पड़ता है। पानी की बोतल और मोबाइल फोन लेकर जा सकते हैं। गर्मी में छाता और पंखी लेकर जाने की भी छूट है।

मेट्रो से जाएं या छोटे साधन चुनें

लाल किले के आसपास संकरे इलाके और भीड़ के चलते आम दिनों में अक्सर जाम लगा रहता है, इसलिए यहां या तो मेट्रो से जाएं या किसी छोटे साधन का सहारा लें। निजी कार या टैक्सी से जाम में फंस सकते हैं। पार्किंग के लिए भी दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। लाल किला और चांदनी चौक मेट्रो स्टेशन यहां से नजदीक पड़ता है।

टिकट ऑनलाइन लेना बेहतर

किले में प्रवेश के लिए वहां पहुंचकर भी टिकट लिया जा सकता है, लेकिन भीड़ ज्यादा होने से ऑनलाइन टिकट लेना बेहतर रहता है। ऑनलाइन टिकट भी बाहर से ही बुक करना चाहिए, क्योंकि किला परिसर में पहुंचने के बाद कोई भी मोबाइल नेटवर्क सही से काम नहीं कर पाता है। नतीजतन घण्टों प्रयास के बाद भी टिकट बुक नहीं हो पाता है। ऑनलाइन टिकट पर छूट भी मिलती है।

ऑडियो गाइड का सहारा

लाल किला घूमने के लिए भारतीयों को गाइड करने की खास जरूरत नहीं होती है, यह विदेशियों के लिए ही ठीक होता है। इसके विकल्प के रूप में ऑडियो गाइड ले सकते हैं। किले में प्रवेश के समय जहां सुरक्षा जांच होती है, उसी स्थान पर यह सुविधा किराए पर उपलब्ध है। वैसे अंदर हर जगह शिलापट्ट पर ब्योरा दिया गया है।

लाल किला में क्या देखें

पर्शियन आर्किटेक्ट अहमद लाहौरी द्वारा डिजाइन और शाहजहां द्वारा बनवाए गए लाल किले के अंदर घूमने-देखने के लिए बहुत कुछ है। इसके भीतर घुसते ही मीना बाजार पड़ता है। यहां बनीं शॉप से पीतल, स्टोन आदि के सजावटी सामान और ज्वेलरी, खिलौने आदि खरीदे जा सकते हैं। हालांकि बाजार के मुकाबले इनके रेट यहां ज्यादा होते हैं। और अंदर जाने पर नया म्यूजियम काम्प्लेक्स देखने लायक है। इसमें 150 साल से भी अधिक के भारतीय इतिहास और युद्ध संबंधी विभिन्न वस्तुओं की झलक मिलती है। ध्यान रखें म्यूजियम घूमने के लिए अलग से टिकट लेना पड़ता है। यह टिकट 80 रुपये का है।

इसके अलावा लालकिला में नौबतखाना, रंगमहल, दीवान-ए-आम और दीवान-ए-खास घूमने लायक है। किले के अंदर देर शाम को लाइट और साउंड शो भी होता है। इसमें किले और दिल्ली का इतिहास बताया जाता है पर 2018 से यह शो फिलहाल बंद है, क्योंकि इस सिस्टम को अपग्रेड किया जा रहा है। इसके लिए भी अलग से टिकट लेना पड़ता है।

प्रवेश टिकट के मूल्य : एक नजर में

  • भारतीयों के लिए : 50 रुपये (ऑनलाइन 35 रुपये)
  • विदेशियों के लिए : 600 रुपये (ऑनलाइन 550 रुपये)
  • 15 वर्ष तक के लड़के-लड़कियों के लिए प्रवेश निशुल्क है।

इस नंबर पर करें पूछताछ

011 2327 7705

0.00 avg. rating (0% score) - 0 votes
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *